मेरा शहर बढ़ रहा

बहुत ही है प्यासा।
बढ़ता ही जा रहा
हर तरफ बाहें फैलाता
गला घोंटने को है उतावला,
यह शहर मेरा।

कांक्रीट की यह इमारतें
निकल पड़े हैं हर गलि,
हर मुहल्ले, हर रास्ते,
हरियाली पर कर प्रहार,
न जाने किस मुकाम की है तालाश।

खामोश बैठा सिसकियां भरता।
दो गज़ जमीन का वह टुकड़ा।
पेड़ों कि सजीवता बरकरार रखने कि चेष्टा
पत्थर की दीवारों पर विफल सर कूटता।

भूल गए हैं रास्ते परिंदे,
अट्टालिकाएं जो उनके पथ पर पाते खड़े।
हर शाम को मेरा बालकनी को मैं निराश पाता।
दूर श्रितिज पर
सूरज की रंगों की बौछार का दृश्य से वंचित रहता।

IMG_20190929_171017

Peter's pondering

Random views and musings with a sprinkling of idiocy

Britta's Blog - Letters from Scotland

Life, the universe and everything, Britta-style

Amitabha Gupta

Photographer & Travelogue Writer

Let's Write......

the magic begins the moment you start being yourself

Nffictionophile

Not only fiction - an avid non-fiction reader too.

gitabharath

random thoughts

Beth Byrnes

... a beautiful life

Don't hold your breath

Tripping the world, slowly

Nortina's Writing Inspiration Well

A blog to inspire the insecure writer in all of us

And Miles to go before I sleep...

Explore.Create.Inspire.Learn.Laugh.Live

raging rambles

suffering sappho!!!

Poetry and Prose of Ken Hume

Engaging in some lyrical athletics whilst painting pictures with words and pounding the pavement. I run; blog; write poetry; chase after my kids & drink coffee.

The Poetorium at Starlite

An Open Mic & Poetry Show

%d bloggers like this: